Print Icon प्रशिक्षण विद्यालय

मानव संसाधन विकास कार्यों के अंतर्गत, वर्ष 2010 में बी.ए.आर.सी. प्रशिक्षण विद्यालय ए.म.डी. परिसर हैदराबाद की स्थापना की गई | विद्यालय की स्थापना का मुख्य उद्देश्य, अभियान्त्रिकी स्नातकों व विज्ञान के स्नातकोत्तर (ओ.सी.ई.एस.) छात्रों के लिए एक वर्ष का अभिमुखी पाठ्यक्रम आयोजित करना, जिससे नाभिकीय क्षेत्र में युवा वैज्ञानिकों/अभियंताओं को तैयार किया जा सके और विशेषतः इन्हें भौमिकी अथार्त भूविज्ञान एवं भूभौतिकी के क्षेत्र में अत्याधुनिक अन्वेषण विधाओं व तकनीकों के विषय में प्रक्षिशित करना है |एक प्रशिक्षु वैज्ञानिक अधिकारी अपना पाठ्यक्रम कार्य सफलतापूर्वक पूरा करने के बाद होमी भाभा नेशनल इंस्टिट्यूट (H.B.N.I.) मानित विश्वविध्यालय द्वरा स्नातकोत्तर डिप्लोमा प्राप्त करने के हक़दार होते हैं  जिसे प.ऊ.वि. द्वारा स्वीकृत परियोजना (प्रोजेक्ट) पूरी करने पर एम.टेक. डिग्री प्राप्त करने हेतु प्रयुक्त किया जा सकता है I

पखनि के अन्वेषण कार्यक्रम की मांग को ध्यान में रखते हुए प्रशिक्षण विद्यालय के पाठ्यक्रम को तीन विधाओं में बांटा गया है अथार्त नाभिकीय विज्ञान, कोर भूविज्ञान/भूभौतिकी एवं क्षेत्र परियोजना माँड़्यूल्स | प्रशिक्षु वैज्ञानिक अधिकारी (टीएसओ) को क्लास रूम लेक्चर व फील्ड में प्रशिक्षण दिए जाने हेतु प्रशिक्षण विद्यालय में पखनि के संकाय के अतिरिक्त अन्य पऊवि यूनिटों (बी.ए.आर.सी,एन.एफ.सी.,यू.सी.आई.एल.,ए.ई.आर.बी.,आई.आर.ई.एल.,एन.पी.सी.आई.एल.आदि), शैक्षणिक संस्थाओं (ओस्मानिया विश्वविद्यालय, हैदराबाद विश्वविद्यालय, आदि) व अन्य संगठनों जैसे एन.एम.डी.सी., एन.जी.आर.आई. में उपलब्ध मानव संसाधनों के माध्मय से प्रशिक्षण दिया जाता है | 

अति सतर्कता से बनाए गए पाठ्यक्रम ने परमाणु खनिज अन्वेषण  (यूरेनियम, विरल धातु व विरल मृदा तथा पुलिन बालू भारी खनिज) के क्षेत्र में उच्च गुणवत्ता के वृतिकों को विकसित करने में अहम भूमिका अदा की है | प्रशिक्षु वैज्ञानिक अधिकारियों का प्रशिक्षण निष्पादन नियमित परीक्षा आयोजित कर मूल्यांकित किया जाता है और परीक्षा की समाप्ति के पश्चात उन्हें प्रमाण-पत्र प्रदान किए जाते है | प्रत्येक विषय क्षेत्र में गुणवान प्रशिक्षु वैज्ञानिक अधिकारियों को होमी भाभा पुरस्कार प्रदान किए जाते हैं | स्नातक प्रशिक्षुओं को पखनि के विभिन्न  क्षेत्रिय व पऊवि की अन्य यूनिटों में तैनात किया जाता है |
वैज्ञानिक अधिकारी जो एम.टेक प्रोजेक्ट कार्य कर रहें हैं उन्हें अपने प्रोजेक्ट कार्य पूर्ण करने के बाद एच.बी.एन.आई. द्वारा इंजीनियरिंग साइंसेज़ में डिग्री प्रमाणपत्र की उपाधि प्रदान की जाती  है |
 

ओसीईएस के पिछले बैच        स्नातक समारोह – 2017        ओसीईएस कार्यक्रम